पहला सेमीफाइनल आज, इंग्लैंड के सामने चमत्कार के लिये उतरेगा पाकिस्तान

0
58

कार्डिफ | रोमांचक जीत के साथ आईसीसी चैंपियंस ट्राफी के सेमीफाइनल में पहुंची पाकिस्तानी टीम घरेलू जमीन पर अपराजेय इंग्लैंड क्रिकेट टीम के खिलाफ बुधवार को यहां कार्डिफ में फिर से बड़े चमत्कार की बदौलत फाइनल का टिकट हासिल करने की उम्मीदों के साथ उतरेगी। पाकिस्तानी कप्तान सरफराज अहमद ने श्रीलंका के खिलाफ अपनी टीम को विषम परिस्थितियों से उबारते हुये टूर्नामेंट के सेमीफाइनल में जगह दिलाई। कार्डिफ के इसी मैदान पर उसकी तीन विकेट की जीत काफी करिश्माई रही थी और वह उम्मीद करेगा कि अपने पिछले तीनों मैच जीत चुकी मेजबान इंग्लैंड के सामने वह इसी प्रदर्शन को दोहराते हुये इस महत्वपूर्ण मुकाबले को जीते।

चैंपियंस ट्राफी में ‘अंडरडॉग’ के तौर पर उतरी पाकिस्तानी टीम ने भारत के खिलाफ हाईवोल्टेज मैच हारा था लेकिन उसके बाद अपने पिछले दोनों मैचों में उसने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ डकवर्थ लुईस नियम से 19 रन से और फिर श्रीलंका के खिलाफ तीन विकेट से मैच जीते हैं और सेमीफाइनल में जगह बनाई। इस प्रदर्शन से पाकिस्तानी टीम का हौंसला काफी बुलंद हुआ है और साेफिया गार्डन में अपने दूसरे अहम मैच में उसे जीत के लिये बराबरी का हकदार माना जा रहा है। पाकिस्तान ने सोमवार को श्रीलंका के खिलाफ मैच में एक समय 237 रन के बड़े लक्ष्य के सामने 162 रन पर ही अपने सात विकेट गंवा दिये थे। लेकिन फिर सरफराज की नाबाद 61 रन की कप्तानी पारी ने पूरा मैच ही उलट दिया। वहीं मोहम्मद आमिर (नाबाद 28) ने दबाव में अच्छा साथ दिया और आठवें विकेट के लिये 75 रन की साझेदारी ने टीम को सेमीफाइनल में पहुंचा दिया। इसी मैदान पर गत वर्ष सरफराज ने इंग्लैंड के खिलाफ वनडे सीरीज के मैच में 303 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुये 90 रन बनाये थे और पाकिस्तानी कप्तान से फिर इसी तरह की पारी की उम्मीद रहेगी। सरफराज ने भी श्रीलंका के खिलाफ मैच के बाद कहा”गत वर्ष हमने इसी मैदान पर इंग्लैंड के खिलाफ 300 रन के लक्ष्य का पीछा किया था और सीरीज का आखिरी वनडे यहीं खेला था। हमें कार्डिफ में खेलने का अच्छा अनुभव है।” पिछले दोनों मैचों में जीत से पाकिस्तान का हौंसला काफी बुलंद हुआ है लेकिन यह भी ध्यान देना होगा कि इंग्लैंड ने अपने सीमित प्रारूप में काफी सकारात्मक सुधार किया है और मौजूदा टूर्नामेंट में वह अकेली ऐसी टीम ने जिसने पिछले तीनों मैच जीते हैं। इंग्लैंड ने बंगलादेश को आठ विकेट, न्यूजीलैंड को 87 रन और आस्ट्रेलिया को डकवर्थ लुईस नियम से 40 रन से हराया है और सबसे पहले सेमीफाइनल में जगह बनाई है। घरेलू परिस्थितियों में वह और भी आक्रामक दिख रही है और पाकिस्तान के लिये उसे हराना निश्चित ही बाकी टीमों को हराने की तुलना में बड़ी चुनौती रहेगी। पाकिस्तान के पास मोहम्मद आमिर, जुनैद खान, हसन अली, फहीम अशरफ,मोहम्मद हफीज के रूप में अच्छे गेंदबाज हैं लेकिन बल्लेबाजी में उसे सुधार की जरूरत है। रनों के लिहाज से टीम सरफराज, अजहर अली, फखर जमान पर निर्भर है लेकिन मध्यक्रम उसकी बड़ी चिंता है। स्टार खिलाड़ी शोएब मलिक पिछले तीनों मैचों में फ्लाप रहे हैं जिन्होंने 11, 16 और 15 रन ही बनाये हैं। दूसरी ओर मेजबान इंग्लैंड के सीमित प्रारूप खेल में 2015 विश्वकप के बाद से काफी बदलाव आया है और उसने अपने आखिरी 12 वनडे में 11 मैच जीते हैं। इंग्लैंड के पास कप्तान मोर्गन, एलेक्स हेल्स,बेन स्टोक्स,जो रूट, और जोस बटलर जैसे बढ़िया स्कोरर हैं। हालांकि ओपनर एलेक्स हेल्स लगातार निराश कर रहे हैं और महत्वपूर्ण सेमीफाइनल में टीम को उन्हें अंतिम एकादश में रखने या बाहर करने का फैसला करना होगा। ऑ,स्ट्रेलिया के खिलाफ तीनों ओपनिंग बल्लेबाजों के सस्ते में आउट होने पर स्टोक्स की नाबाद 102 रन और कप्तान की 87 रन की पारी अहम रही थी और इंग्लिश बल्लेबाज इस प्रदर्शन को दोहरा सकते हैं।

वहीं गेंदबाजों में आस्ट्रेलिया के खिलाफ चार-चार विकेट लेकर सबसे सफल रहे मार्क वुड और आदिल राशिद अहम होंगे। इसके अलावा जैक बॉल, मोइन अली, लियाम प्लेंकेट और स्टोक्स भी उसके अहम खिलाड़ी हैं जिनसे पार पाना पाकिस्तानी बल्लेबाजों के लिये बहुत बड़ी चुनौती रहेगी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here