नियंत्रण रेखा के निकट आतंकवादियों की खोज का अभियान तेज

0
64

श्रीनगर | जम्मू-कश्मीर में पिछले तीन दिनों में घुसपैठ की तीन बड़े प्रयासों को विफल किए जाने के बाद कुपवाड़ा और बारामूला जिले में नियंत्रण रेखा के निकट घने जंगलों में सुरक्षाकर्मियों ने खोज अभियान तेज कर दिया है। इन घटनाओं में तीन आतंकवादी मारे गये। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि इन घटनाओं में एक सैनिक शहीद हो गया और दो अन्य घायल हो गये। शुक्रवार को तड़के ही सुरक्षा बलों ने उत्तरी कश्मीर के नौगाम, कुपवाड़ा के माचिल सेक्टर और बारामूला जिले के उरी में खोज अभियान शुरू कर दिया। माचिल सेक्टर में मुठभेड़ में चार घुसपैठिये मारे गये। नौगाम सेक्टर में छह जून को तीन और घुसपैठिये मारे गये। यहीं कल एक सैनिक शहीद हो गया। उरी सेक्टर में जवानों ने हाल ही में घुसपैठ के प्रयास को नाकाम कर दिया। कल आतंकवादियों के साथ हुयी मुठभेड़ में दो जवान घायल हो गये, इस घटना के बाद आतंकवादी पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में भाग गये। सुरक्षा बल किसी तरह की हानि से बचने के लिए रात में अपना अभियान बंद कर दे रहे हैं। जवानों ने हालांकि पूरे जंगली इलाके को घेर लिया है जिससे आतंकवादी भागने में कामयाब न हो सकें।  ऐसी रिपोर्ट हैं कि सीमा पार बड़ी संख्या में आतंकवादी घुसपैठ की ताक में हैं हालांकि जवान घुसपैठ के प्रयास को विफल करने के लिए पूरी तरह से सतर्क हैं। रिपोर्ट के अनुसार इस वर्ष अब तक पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर से घुसपैठ की 22 घटनाएं हुयी हैं। इनमें 34 आतंकवादी मारे गये। पिछले वर्ष घुसपैठ की 88 घटनाएं हुई थीं जबकि वर्ष 2015 में मात्र 28 घटनाएं हुई थीं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here