इस्लाम के खिलाफ बताकर तालिबान ने तोड़ी थी बुद्ध की ये मूर्ति, 10 साल बाद पाक ने किया ठीक

0
73
आतंकी संगठन तहरीक-ए-तालिबान ने इस मूर्ति को इस्लाम धर्म की परंपरा के विपरीत मानकर तोड़ने का हुक्म दे दिया था। बुद्ध की यह आकृति पत्थर पर उकेर कर बनाई गई थी। 2007 में तालिबान ने इसे छिन्न-भिन्न कर दिया था। उम्मीद की जा रही है कि मूर्ति को फिर से पुरानी स्थिति में लाने के बाद यहां पर्यटकों की संख्या में इजाफा होगा।

इस प्रोजेक्ट के डायरेक्टर लूसा ओलिवेरी ने कहा कि मूर्ति की मरम्मत का कार्य साफ दिखाई दे रहा है, और देखने वाला इस संपूर्ण कार्य को देख सकता है। माना जाता है कि स्वात घाटी में बुद्ध की इस आकृति को सातवीं सदी में बनाया गया था पर कुछ शोधकर्ताओं का मानना है कि यह उस से भी अधिक पुरानी है।

इस इलाके में गंधार काल के काफी अवशेष मौजूद हैं, और सुरक्षा स्थति बिगड़ने से पहले बहुत पर्यटक यहां आते रहे हैं।

आपको बता दें कि साल 2009 में पाकिस्तान ने इस इलाके में आतंकियों के खिलाफ बड़ी कार्रवाई की थी। यहां से विस्थापित 20 लाख लोगों को फिर से वापस बुलाया गया। इसी इलाके से नोबेल शांति पुरस्कार की विजेता मलाला युसुफजाई भी आती हैं। 2012 में स्वात जिले के सबसे ज़्यादा आबादी वाले शहर मिंगोरा में महिला शिक्षा के लिये लड़ाई लड़ने वाली मलाला युसुफज़ई पर आतंकियों ने हमला किया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here